Breaking News
Home / खेल / खेती से नहीं हो रहा अच्छा मुनाफा तो मछली पालन का शुरू करे व्यापार

खेती से नहीं हो रहा अच्छा मुनाफा तो मछली पालन का शुरू करे व्यापार

देश में बढ़ती आबादी के साथ साथ लगातार हुए भूमि के हिस्सों के कारण आज कुछ किसान ऐसे भी हैं जिनके पास एक एकड़ से भी कम की जमीन बची हुई हैं. ऐसे में अगर वह वहां खेती कर भी लें तो भी वह इतना पैसा नहीं कमा सकते की अपना घर और दुबारा खेती करने के पैसे जुटा सके.ऐसे में उन किसानों को उसी जमीन पर अलग विकल्पों के जरिये पैसे कमाने के बारे में सोचना चाहिए. इसलिए आज हम आपके लिए मछली पालन से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण जानकारियां लेकर आये हैं. जिससे आप उसी जमीन पर खेती से ज्यादा पैसे कमा पाएंगे.
indian-fish-farming-pic

अगर आप मछली पालन का काम शुरू करने वाले हैं तो आपको सबसे पहले अपनी एक एकड़ जमीन को एक तालाब में बदलना होगा. तालाब में कहीं भी कोई टीला न हो इसका ध्यान रखें. जल आपूर्ति के लिए आपको मोटर पंप लगवाना होगा. तालाब के किनारों पर आप सीमेंट, ईंट-पत्थर या फिर मिट्टी से भरी बोरियां रखकर जमीन के कटाव को रोकने का काम करवा सकते हैं.तालाब के तल पर आपको चिकनी मिट्टी की एक पर्त बिछानी होगी, चिकनी मिट्टी लताब के सबसे उपयुक्त मानी जाती हैं. तालाब में किसी प्रकार के जलीय पौधे न उगे उसका भी आपको ध्यान रखना होगा. जलीय पौधे बहुत तेज़ी से फैलते हुए तालाब को घेर लेते हैं, ऐसे में मछली का जिन्दा रह पाना मुमकिन नहीं होता.अगर आप मछलियों की ज्यादा पैदावार चाहते हैं तो आप एक एकड़ तालाब में 250 किलोग्राम चूने को मिला दें. इसके साथ ही गोबर खाद के प्रयोग से 15 दिन के बाद रासायनिक खाद सिंगल सुपर फास्फेट 250 किलोग्राम, म्यूरेट ऑफ पोटाश 40 किलोग्राम, कुल मिश्रण 490 किलोग्राम 10 समान मासिक किश्तों में डालते रहें.

indian-fish-farming-pics

अगर आप किसी प्रकार के उर्वरकों का इस्तेमाल करते हैं और पानी का रंग नीला या हरा हो जाता है तो आपको तब तक दुबारा उर्वरकों का इस्तेमाल नहीं करना जब तक पानी का रंग सही स्थिति में ना आ जाए. आपको मछलियों की अच्छी पैदावार के लिए नियमित समय पर छोटी मछलियों के बीज छोड़ते रहना होगा. ऐसे में बड़ी मछलियां एक दूसरे को नहीं खाएंगी.मछलियों की किस्मों की बात करें तो हमारे देश में सबसे ज्यादा देश की मेजर कार्प मछलियों में कतला, रोहू व नैन और विदेशी कार्प में सिल्वर कार्प और ग्रास कार्प तथा कॉमन कार्प की पैदावार को सबसे फायदेमंद माना जाता हैं. इसकी खाने को लेकर मांग और कीमत में कभी गिरावट देखने को नहीं मिलती.
indian-fish-farming-photos

About Vasundhra vatham

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *