Breaking News
Home / पर्यटन / धनौल्टी: कम बजट में घूमने के लिए बेस्ट है ये आकर्षक हिल स्टेशन

धनौल्टी: कम बजट में घूमने के लिए बेस्ट है ये आकर्षक हिल स्टेशन

उत्तराखंड की हसीन वादियों में घूमना किसे पसंद नहीं। शांत पहाड़ियां बहती नदियां घने जंगल में पशु-पक्षियों की आवाज में अपनी छुट्टियों के दिनों को बिताना ही कितना खूबसूरत लगता है। हर राज्य का अपना अलग अपना महत्व है पर उत्तराखंड में विश्व के कोने-कोने से पर्यटन इन खूबसूरती को जीने आते हैं प्रेमियों से लेकर एडवेंचर के शौकीन यहां घूमने आते हैं।

देवदार, रोडोडेंड्रोन और ओंक के वनों से आच्छादित यह नगर चंबा मसूरी मार्ग पर स्थित है | धनोल्टी में लम्बे जंगली ढलान शांत माहौल सुन्दर मौसम, सर्दियों में बर्फ से ढकी पहड़िया. इसे छुट्टियाँ बिताने के लिए एक आदर्श पर्यटन स्थल बनती हैं| चंबा मसूरी मार्ग पर यह नगर चंबा से 29 कि0मी0 एवं मसूरी से 24 कि०मी० की दूरी पर स्थित है | रहने के लिए यहाँ पर्यटक विश्राम गृह, वन विभाग के विश्राम गृह, अतिथि गृह एवं होटल उपलब्ध हैं|

अगर आप धनोल्टी गए और इन खूबसूरत जगहों को नहीं देखा तो आपने धनोल्टी जाना सफल नहीं तो जानते हैं उस गांव के बारे में

देवगढ़ का किला


धनौल्टी भ्रमण की शुरूआत आप यहां के ऐतिहासिक स्थलों से कर सकते हैं। पहाड़ी सुंदरता के बीच देवगढ़ का किला धनौल्टी के अद्भुत दृश्य प्रस्तुत करता है। कई साल पुराना यह किला आज भी अपनी मजबूत बुनियाद के साथ पहाड़ियों के बीच खड़ा है। इस किले की वास्तुकला और जगह-जगह मौजद मूर्तियां इसे खास बनाने का काम करती हैं।
इस किले के आसपास कई धार्मिक स्थल भी मौजूद हैं, जिन्हें भी आप इस दौरान देख सकते हैं। किले का आसपास का इलाका देखने योग्य है। इतिहास के कुछ अहम पहलुओं को यहां समझा जा सकता है। देवदार, रोडोडेंड्रोन और ओंक के वनों से आच्छादित यह नगर चंबा मसूरी मार्ग पर स्थित है | धनोल्टी में लम्बे जंगली ढलान शांत माहौल सुन्दर मौसम, सर्दियों में बर्फ से ढकी पहड़िया. इसे छुट्टियाँ बिताने के लिए एक आदर्श पर्यटन स्थल बनती हैं|

चंबा मसूरी मार्ग पर यह नगर चंबा से 29 कि0मी0 एवं मसूरी से 24 कि०मी० की दूरी पर स्थित है | रहने के लिए यहाँ पर्यटक विश्राम गृह, वन विभाग के विश्राम गृह, अतिथि गृह एवं होटल उपलब्ध हैं|

जोरांडा और बरेहीपानी जलप्रपात


धनौल्टी के प्राकृतिक स्थलों में आप यहां के जोरांडा और बरेहीपानी जलप्रपात की सैर का आनंद ले सकते हैं। ये जलप्रपात प्राकृतिक हैं और इस हिल स्टेशन के चुनिंदा सबसे खास पर्यटन गंतव्यों में गिने जाते हैं। अपने ठंडक भरे एहसास के लिए प्रसिद्ध ये जलप्रपात ,सैलानियों के मध्य काफी ज्यादा लोकप्रिय हैं। यहां का आसपास का नजारा बेहद खूबसूरत है जो आपको एक पहल ठहरने के लिए जरूर मजबूर करेगा। धनौल्टी की यात्रा को अगर आप रोमांचक बनाना चाहते हैं तो यहां जरूर आएं।

सुरकंडा देवी मंदिर


धनौल्टी अपने प्राकृतिक खजानों के अलावा धार्मिक स्थलों के लिए काफी प्रसिद्ध है, सुरकंडा देवी मंदिर यहां का प्रसिद्ध मंदिर हैं जहां सालभर श्रद्धालुओं का जमावड़ा लगता है। सुरकंडा देवी मंदिर भारत के 51 शक्तिपीठों में शामिल है, और जो अकसर त्रिकोण धार्मिक स्थल (सुरकंडा देवी मंदिर, स्थल कुंजापुरी और चंद्राबादानी) के नाम से जाना जाता है।
धनौल्टी से यह मंदिर लगभग 7 किमी की दूरी पर स्थित है। लोगों की अटूट आस्था के साथ-साथ यह मंदिर अपनी खूबसूरत भौगोलिक स्थित के लिए भी प्रसिद्ध है। आध्यात्मिक अनुभव के लिए आप यहां आ सकते हैं।

ईको पार्क


धनौल्टी के प्राकृतिक स्थलों के भ्रमण की शुरूआत आप यहां स्थित इको पार्क से कर सकते हैं। धनौल्टी टूरिज्म का यह एक मुख्य पार्ट माना जाता है। प्राकृतिक वनस्पतियों से भरा यह स्थल शरीर में स्फूर्ति लाने का काम करता है। हरा-भरा यहां का क्षेत्र आंखों को सुकून देने का काम करता है।
यहां आप कई पहाड़ी वृक्षों के देख सकते हैं जिनमें देवदार सबसे आम हैं। यहां सुबह की पैदल यात्रा के दौरान आप शरीर में नई उर्जा के प्रवाह को महसूस कर सकते हैं। यहां प्रवेश करने के लिए आपको सामान्य का शुल्क अदा करना पड़ेगा। धनौल्टी आएं तो यहां आना न भूलें।

कनताल


हिमालय में छिपा हुआ एक मणि, कनताल का अनोखा गांव एक असामान्‍य पर्यटक पड़ाव है। कनताल झील (जो अब मौजूद नहीं है) से अपना नाम लेने वाली इस जगह पर, उन आकर्षणों की एक लंबी सूची है जो मंदिर अभियानों से लेकर साहसिक खेलों तक के अनुभव प्रदान करते हैं। सूची में सबसे ऊपर टिहरी बांध है, जिसे दुनिया के सबसे ऊंचे बांधों में से एक माना जाता है। बांध जलाशय टिहरी झील, झुंडों में पर्यटकों को अपने सुंदर और शांत वातावरण की ओर आकर्षित करती है। एक अन्य आकर्षण सुरकंडा देवी मंदिर है, जो देश में 51 शक्तिपीठों में से एक है। यह देवी सुरकंडा को समर्पित है और अपनी वास्तुकला के लिए प्रसिद्ध है

घुड़सवारी का आप यहां आनंद ले सकते हैं। और यहां सालभर मौसम ठंडा रहता है। दिसंबर के बाद यहां बर्फबारी होना शुरू हो जाती है। धनोल्टी में camping की अच्छी सुविधा है। यहां एडवेंचर से भरपूर है। धनोल्टी एक ऐसा पर्यटन स्थल है जहाँ आने के बाद लोगों को एक अलग ही शांति का अनुभव होता है और यह जगह भीड़-भाड़ वाली दुनिया से दूर लाकर लोगों को एक सुखद अनुभव देती है। उत्तराखंड में देखने के लिए बहुत कुछ है और भारत के गर्म स्थानों से आने वाले लोगों को यहां आकर बहुत शानदार एहसास होता। धनोल्टी पर्यटन स्थल धर्मों और पारंपरिक रूप से यहाँ के मंदिरों, झीलों और चट्टानों से सुंदर प्रकृति प्रदान करता है।

About Vasundhra vatham

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *