Breaking News
Home / खबरे / पहाड़ का ये बहुत ईमानदार छात्र.. मिला 2 लाख रुपयों से भरा बैग रास्ते में

पहाड़ का ये बहुत ईमानदार छात्र.. मिला 2 लाख रुपयों से भरा बैग रास्ते में

उत्तराखंड के लोग अपनी सादगी और सच्चाई के लिए जाने जाते हैं। उनकी ईमानदारी और सच्चाई सबसे बड़ी वजह है कि पहाड़ के लोग उनके दिल में बसते हैं। उत्तराखंड के कई लोगों ने अपनी ईमानदारी की मिसाल कायम की है। आज एक बार फिर, ईमानदारी का ऐसा ही एक उदाहरण चंपावत, उत्तराखंड के एक छात्र द्वारा निर्धारित किया गया है, जिसने अपने मालिक को बीस-बीस लाख से भरा बैग लौटाया। इतने पैसे देखकर किसी के भी मन में चोर आ सकता है। अगर वे चाहते, तो वे इतने पैसे से भरा बैग रख सकते थे, लेकिन छात्र पवन भट्ट ने, अपनी ईमानदारी के उदाहरण से, यह साबित कर दिया कि अपने मालिक को पच्चीस लाख रुपये से भरा बैग वापस करके। उत्तराखंड के लोग बहुत सीधे, सरल और ईमानदार होते हैं
जहां चंद रुपयों को लेकर लोगों का ईमान डोल जाता है वहां पवन ने इतनी बड़ी धनराशि को उसके असली मालिक तक पहुंचा कर पैसों के मालिक समेत कई लोगों का दिल जीता है। बैग के मालिक तो पवन की इस ईमानदारी भरे कार्य की तारीफ करते थक नहीं रहे हैं। वाकई पवन भट्ट की जगह और कोई होता तो शायद यह पैसों का बैग उसके मालिक तक नहीं पहुंचता। केवल इतना ही नहीं पवन भट्ट ने इनाम की राशि को भी अपनी जिम्मेदारी बताते हुए ठुकरा कर यह साबित कर दिया है कि वाकई उत्तराखंडी ईमानदारी के मामले में सबसे आगे हैं। चलिए अब आपको पूरे मामले की संक्षिप्त से जानकारी देते हैं। प्राप्त जानकारी के अनुसार मूल रूप से चंपावत जिले के निवासी पवन भट्ट राजकीय के डिग्री कॉलेज से बीए की पढ़ाई कर रहे हैं। बीते शनिवार की सुबह पवन भट्ट को टनकपुर-पिथौरागढ़ राष्ट्रीय राजमार्ग पर एक होटल के पास एक बैग लावारिस पड़ा मिला। जब बैग खोल के देखा गया तो पता लगा वह रुपयों से भरा हुआ है जिसके बाद पवन भट्ट ने रुपए से भरे बैग को गिना तो उसके अंदर पौने 2 लाख रुपए पाए गए।
पवन ने अपने भाई हेम भट्ट को इस पैसे के बैग के बारे में बताया और उनका भाई भी तुरंत ही वहां पहुंचा। दोनों भाइयों ने बैग को पुलिस के हवाले करने की ठानी। दोनों भाई कोतवाली चंपावत उस बैग को देने जा ही रहे थे कि तभी बैग का असली मालिक वहां अपने पैसों की तलाश में पहुंच गया। उसके चेहरे पर परेशानी साफ तौर पर देखी जा सकती थी। जब उससे उसकी परेशानी के बारे में पूछा गया तो उसने बताया कि उसका पैसों से भरा बैग यहीं-कहीं गिर गया है और अब मिल नहीं रहा। जिस पर पवन ने व्यापारी से बैग के रंग उसकी पहचान और उसके अंदर मौजूद राशि बताने के लिए कहा और जब दोनों भाई उसके जवाब से संतुष्ट हो गए तो उन्होंने नोटों से भरा बैग उसके असली मालिक को वापस कर दिया। केवल इतना ही नहीं पवन भट्ट को व्यापारी ने धन्यवाद देते हुए इनाम देने की पेशकश की तो उन्होंने इसे अपनी जिम्मेदारी बताते हुए इनाम देने से भी इनकार कर दिया। इस पूरे मामले के बाद पूरे क्षेत्र के लोग पवन भट्ट की तारीफ करते थक नहीं रहे हैं। वहीं व्यापारी ने भी पवन भट्ट की ईमानदारी की सराहना की है और उनका आभार व्यक्त किया है।

About kunal lodhi

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *